इंसानियत कि मिसाल :रिक्शा चालक से बने शिक्षक, रिटायरमेंट पर मिले 40 लाख छात्रों किया दान…

join WhatsApp group


आज भी इस युग में इंसानियत कि दे रहे मिसाल है एक शिक्षक ने अपनी 39 साल की सेवा के बाद भी अपनी पूरी जिंदगी की कमाई बच्चों को दान कर दी। यह प्रशंसा के योग्य काम मध्य प्रदेश के पन्ना जिले के सरकारी प्राथमिक विद्यालय के एक शिक्षक ”विजय कुमार” ने किया। जिन्होंने रिटायरमेंट के बाद मिली ग्रेच्युटी में करीब 40 लाख रुपए की राशि गरीब छात्रों को दान कर दिया।

इस बात कि घोषणा विजय कुमार चंसौरिया ने सोमवार को प्राथमिक शाला खदिंया में अपने रिटायरमेंट के दिन 31 जनवरी को उन्हें सम्मानित करने के लिए सहयोगियों द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में की।

Read More:-छत्तीसगढ़ PCS प्रारंभिक परीक्षा का एडमिट कार्ड जारी, ऐसे करें डाउनलोड …

कार्यक्रम के दौरान विजय कुमार चंसौरिया ने कहा कि अपनी पत्नी, दो बेटों एवं बेटी की सहमति से मैंने अपने भविष्य निधि और ग्रेच्युटी के सारे पैसे गरीब छात्रों के लिए स्कूल को दान करने का फैसला लिया है। दुनिया में कोई भी दुख को कम नहीं कर सकता, लेकिन हम जो भी अच्छा कर सकते हैं वह करना चाहिए।

Read More:-साल 1750 से ग्रीक साम्राज्य के खोजे जा रहे निशान ,खुदाई में मिले 2500 साल पुराने हेलमेट…

उन्होंने कहा कि मैंने अपने जीवन में बहुत मुश्किल भरा रहा है। मैंने अपना गुजारा एवं पढ़ाई पूरी करने के लिए रिक्शा चलाया और दूध बेचा। मैं 1983 में शिक्षक के पद पर पदस्थ हुआ था। मैं 39 साल तक गरीब स्कूली बच्चों के बीच रहा और उन्हें हमेशा ही अपने वेतन से उपहार और कपड़े देता रहा। उपहार पाकर बच्चों के चेहरे की खुशी देखकर मुझे यह प्रेरणा मिली। इन बच्चों की खुशी में ईश्वर दिखते हैं।

You may have missed

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="69"]