join WhatsApp group


हर साल देश में ​सिविल सर्विस परीक्षा में कई लाखों लोग भाग लेते हैं और परीक्षा पास करने के लिए कई लोग कोचिंग भी करते हैं लेकिन पास करने में कई प्रतिभागियों को कई साल लग जाते हैं और उन्हें लगातार मेहनत करनी पड़ती है। हालांकि बहोत कम लोग ऐसे होते हैं जो बिना कोचिंग के यह परीक्षा पास कर ​लेते हैं। उन्हीं में से है सर्जना यादव हैं जो तीसरे प्रयास में आईएएस अधिकारी​​ बनी। उन्होंने वर्ष 2018 में सिविल सेवा परीक्षा में ऑल इंडिया में उन्होंने 126 की रैंक प्राप्त की थी।

​​​​


Read More:-10 वीं और 12वीं क्लास के प्री बोर्ड एग्जाम, बीमार परीक्षार्थियों को बोर्ड ने दी रियायत..

बता दें की सर्जना ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन करने के बाद नौकरी करते हुए यूपीएससी ​की तैयारी करने का निर्णय लिया। वे पहले दो प्रयास में तैयारी ठीक ना होने की वज़ह से यह परीक्षा पास नहीं कर सकी ,लिहाज़ा तीसरे प्रयास के लिए उन्होंने नौकरी छोड़ने और कोचिंग लेने का मन बनाया था। लेकिन उन्होंने नौकरी तो छोड़ दी लेकिन कोचिंग ना लेकर ही खुद ही तैयारी में जुट गई।

Read More:-N-95 मास्क को कितनी बार पहनना चाहिए, जानिए …

सर्जना की इस कमयाबी ऐसे युवाओं के लिए प्रोत्साहन की वज़ह है जो नौकरी करते हुए और बिना कोचिंग के यह परीक्षा पास करने की कोशिश में जुटे हैं।
वही यूपीएससी की तैयारी करने वाले से सर्जना का कहना है कि अधिक किताबों के बजाय सीमित किताबें पढ़नी चाहिए। साथ ही उन किताबों को बार-बार पढ़ते रहना चाहिए। उनका कहना है कि आपको गूगल पर विषयों की जानकारी, वीडियो और ट्यूटोरियल मिल जाएंगे जिससे आपके मन में एक भी शंका नहीं होंगी। ​

You may have missed

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="69"]