ओमिक्रॉन से दूर रहना चाहतें है तो इन बातों का रखें ख्याल…

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से हर तरफ संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। भारत में भी इसके काफी प्रभाव देखने को मिल रहा है। देश में हर दिन तेजी से मामले बढ़ रहे हैं। भारत में नए कोरोना संक्रमितों की संख्या काफी अधिक है। ओमिक्रॉन वैसे तो हल्के लक्षणों के साथ आया है, लेकिन इसका संक्रमण दर काफी तेज है।


join WhatsApp group


ओमिक्रॉन की शुरुआत सर्दी-बुखार जैसे आम लक्षणों के साथ हुई थी, लेकिन अब ये तेजी से बदल रहे हैं। कोरोना वायरस का कोई इलाज नहीं है, इससे केवल बचा ही जा सकता है। कोरोना से बचाव के लिए जरूरी है कि सभी लोग जारी किए गए दिशा- निर्देशों का सख्ती से पालन करें।

READ MOREगणतंत्र दिवस :75 साल के इतिहास में पहली बार परेड में होगी देरी…

वैक्सीनेशन


कोरोना से बचाव के लिए सबसे ज्यादा जरूरी वैक्सीनेशन है। भले ही कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लेने वालों को भी ओमिक्रॉन संक्रमित कर रहा है। लेकिन डब्लूएचओ ने भी इस बात को माना है कि वैक्सीनेशन मरीजों के हॉस्पिटल में एडमिट होनें और मौत होनें की संभावना को कम करता है। जिसका मतलब है कि वैक्सीनेटेड व्यक्ति को जान का जोखिम कम है और वैक्सीन पूरी तरह से सुरक्षित है।

बार-बार हाथों को धोएं

ओमिक्रॉन हर किसी को अपनी चपेट में आसानी से ले रहा है। इसलिए खुद को और अपने परिवार को इससे बचाने के लिए बार- बार हाथ धोते रहें।

कमरे को बनाए हवादार

कोरोना वायरस नमी वाली जगहों पर ज्यादा दिनों तक टिका रहता है। इसलिए अपने कमरे की खिड़कियों को खुला रखें ताकि आपके घर में नमी न बनी रहेसोशल डिस्टेंसिंग का करें पालन

जरा सा कोरोना कम होते ही आप सोशल डिस्टेंसिंग को फॉलो करना भूल जाते हैं। इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि ओमिक्रॉन का संक्रमण तेजी से फैलता है इसलिए इससे बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन करें।

मास्क पहनना न भूलें

यूनिसेफ का कहना है कि अगर आप भीड़-भाड़ वाली जगह पर हमेशा मास्क पहने रहें। मास्क मुंह और नाक को अच्छे से ढंक कर रखता है। मास्क लगाते और हटाते समय आपके हाथ साफ होना चाहिए और मास्क हमेशा सही तरीके से पहने।

You may have missed

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="69"]