अमर जवान ज्योति को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में मिलाने का फैसला …

अमर जवान ज्योति के रूप में जानी जाने वाली शाश्वत ज्वाला 1972 में इंडिया गेट आर्च के नीचे 1971 के भारत-पाक युद्ध में शहीद हुए सैनिकों की याद में बनाई गई थी.
इंडिया गेट के नीचे जल रही अमर जवान ज्योति को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में मिलाने के फैसले पर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं।


join WhatsApp group


सेना के रिटायर्ड कई अफसर इसे सही कदम बता रहे हैं। उनका कहना है कि जब तक अपना युद्ध स्मारक नहीं था तब तक अमर जवान ज्योति के सहारे युद्ध में सर्वोच्च बलिदान देने वाले अपने सैनिकों की याद करना सही था, लेकिन अब जब राष्ट्रीय युद्ध स्मारक बन गया है तो इसे अमर जवान ज्योति को अलग से बनाए रखने की जरूरत नहीं है।

‘वॉर मेमोरियल में अमर जवान ज्योति को मिलाना सही’

1971 के युद्ध में हिस्सा ले चुके आर्मी के पूर्व डेप्युटी चीफ लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) बीएस यादव ने भी अमर जवान ज्योति को शिफ्ट करने करने के फैसले का समर्थन किया है। उन्होंने कहा, ‘जब हमारी सरकार ने हमारे योद्धाओं और जवानों की याद में अब हमारे पास राष्ट्रीय युद्ध स्मारक है तो यह उचित होगा कि वॉर मेमोरियल के अंदर ही अमर जवान ज्योति को मिला दिया जाए।’


भारतीय सेना के पूर्व डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) विनोद भाटिया ने कहा, ‘आज 50 साल बाद अमर जवान ज्योति को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक के ज्योति में मिलाया जा रहा है ये बहुत ही अच्छा फैसला है क्योंकि अमर जवान ज्योति (इंडिया गेट) पर ब्रिटिश भारतीय सैनिकों का नाम है वो हमारे पूर्वज थे।’

You may have missed

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="69"]