Vocal For Local की आवाज़ पर बाजार में कमबैक की तैयारी में भारतीय मोबाइल कंपनियां।

नई दिल्ली, 20 जून 2020

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा की गई आत्मनिर्भर भारत अभियान और वोकल फॉर लोकल की अपील के बाद देश में चीनी उत्पादों के बहिष्कार की मुहिम जोर पकड़ रही है। केन्द्र सरकार ने 300 से ज्यादा चीनी उत्पादों पर आयात शुल्क कई गुना बढ़ाने का फैसला किया है। इससे चीनी उत्पाद भारत में महंगे हो जाएंगे। जिससे भारत में चीनी उत्पादों के खरीदार घट जाएंगे।

सरकार की इस मुहिम को देखते हुए भारतीय कंपनियों ने खुद को खड़ा करने की तैयारी शुरु कर दी है। सबसे ज्यादा मोबाइल और टेलीकॉम सेक्टर की भारतीय कंपनियों ने लोकल उत्पादों को बढ़ावा देने की रणनीति बनाई है। चीनी मोबाइल फोनों से टक्कर लेते-लेते बाजार से लगभग गायब हो चुकी भारतीय मोबाइल कंपनी माइक्रोमैक्स ने जल्द ही कुछ नया लाने को लेकर ट्विटर पर बयान जारी किया है। कंपनी ने बताया है कि वो भारत में तीन नए स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रही है, जिसमें प्रीमियम फीचर्स और मॉडर्न लुक वाले बजट फोन भी शामिल हैं।

माइक्रोमैक्स ही नहीं लावा मोबाइल कंपनी भी वापसी को तैयार है। लावा इंटरनेशनल के प्रोडक्ट हेड तेजेंदर सिंह के मुताबिक कंपनी आने वाले दिनों में न्यू लॉन्चिंग के लिए तैयार है। उन्होंने कहा, “हम इस समय स्मार्टफोन के साथ फीचर फोन के लिए भी पोर्टफोलियो को फिर से तैयार कर रहे हैं। अगले कुछ महीनों में हम अपने पोर्टफोलियो से हर भारतीय की जरूरतों को पूरा करेंगे।”

कार्बन और इंटेक्स मोबाइल कंपनियां भी वोकल फॉर लोकल के लिए तैयार हैं। कार्बन मोबाइल के कार्यकारी निदेशक शशिन देवसरे ने बताया कि कंपनी एंट्री और मिड-लेवल स्मार्टफोन पर काम कर रही है।

सैमसंग का शेयर बढ़ा एक नेशनल स्मार्टफोन रिटेलर ने कहा कि चीन विरोधी भावनाएं से लोकल ब्रांड्स को मदद मिलेगी। लोग वास्तव में चीनी स्मार्टफोन खरीदने से बच रहे हैं। इतने महीनों में पहली बार सैमसंग के लिए मेरा स्मार्टफोन शेयर वीवो और अन्य चीनी कंपनियों की तुलना में काफी हद तक बढ़ गया है।

सस्ते विकल्प में चीनी फोन आगे हालांकि, खुदरा विक्रेता ने कहा कि चीनी ब्रांड अभी किसी भी परेशानी से दूर हैं, क्योंकि कस्टमर उनसे दूर जाने की कोशिश करते हैं, तो उनके विकल्प अभी बहुत सीमित हो जाते हैं। सैमसंग और मोटोरोला ऐसे ऑप्शन है जो आमतौर पर चीनी स्मार्टफोन की तुलना में अधिक कीमत के फोन हैं। ऐसे में भारतीय ब्रांड की एंट्री चीनी कंपनियों को कॉम्पटिशन दे सकती है।

You may have missed

Subscribe To Our Newsletter

[mc4wp_form id="69"]