श्री रावतपुरा सरकार इंटरनेशनल स्कूल, धनेली के बच्चों ने पुलिस के जवानों को भेजी राखियां।

रायपुर, 8 अगस्त

श्री रावतपुरा सरकार इंटरनेशनल स्कूल, धनेली के बच्चों ने अपने हाथों से राखियां बनाकर पुलिस के जवानों को भेजी हैं। एसआरआई स्कूल में आयोजित ‘राखी विद खाकी’ कार्यक्रम में 175 बच्चों ने हिस्सा लिया था। जिसमें 6 साल से 12 वर्ष तक के बच्चों ने अपनी क्रिएटिविटी का इस्तेमाल करते हुए राखियां बनाईं। ये सभी राखियां छत्तीसगढ़ पुलिस के जवानों की कलाई पर सजेंगी।

एसआरआई स्कूल के एडमनिस्ट्रेटिव स्टाफ ने रायपुर ग्रामीण के एडीशनल एसपी तारकेश्वर पटेल को ये राखियां भेंट की हैं। एडीशनल एसपी बच्चों की बनाई राखियां पाकर बेहद खुश हुए। उन्होंने कहा कि पुलिस के जवान हर तीज-त्यौहार में चौबीसों घंटे लोगों की सुरक्षा में तैनात रहते हैं, ऐसे में कई बार पुलिस के जवानों की कलाईयां सूनी रह जाती हैँ। लेकिन बच्चों की भेजी गईं इन राखियों को वे जवानों को वितरित करेंगे और उनसे मासूमों की हरदम सुरक्षा करने का वादा लेंगे।

पुलिस और खाकी का खौफ बच्चों के मन से दूर करने के मकसद से एसआरआई स्कूल, धनेली में ये कार्यक्रम आयोजित किया गया था। जिसमें बच्चों को पहले पुलिस की कार्यशैली और उसकी महत्ता को बताया गया। इस मौके पर एक डॉक्यूमेंट्री भी बच्चों को दिखाई गई। जिसमें पुलिस के जवानों के किये गये बेहतरीन कामों को शामिल किया गया था। डॉक्यूमेंट्री देखने के बाद बच्चों के मन से खाकी का डर दूर हुआ और अपनी राखी को सुंदर और दूसरे से बेहतर तैयार करने में जुट गए।

 ‘राखी विद खाकी’ कार्यक्रम के सफल आयोजन पर स्कूल के डायरेक्टर डॉ. अनिल शर्मा ने खुशी जताई है। उन्होंने कहा कि वे खुद एयरफोर्स के सेवानिवृत्त ग्रुप कैप्टन है। पुलिस और सेना से जुड़ी समस्या और जवानों की भावनाओं को बखूबी समझते हैं। बच्चों के कोमल हाथों से बना तोहफा पाकर तमाम जवान अपना दर्द और पीड़ा भूल जाते हैं।

एसआरआई स्कूल धनेली में नर्सरी से लेकर कक्षा 10 तक की पढ़ाई कराई जाती है। एसआरआई स्कूल श्री रावतपुरा सरकार लोक कल्याण ट्रस्ट के तहत संचालित शैक्षणिक संस्था है। संस्था का उद्देश्य कम फीस लेकर समाज के निर्धन और गरीब बच्चों को उच्च श्रेणी की शिक्षा मुहैया कराना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

Subscribe To Our Newsletter